चाणक्य नीति अनुसार जीवन में सफल होने के लिए स्वयं पता होने चाहिए इन 6 प्रश्नों के उत्तर:- जानिए कौन से हैं ये प्रश्न!!

“चाणक्य नीति अनुसार जानिए सफलता पाने की कुंजी”

अगर देखा जाये तो आज के समय मे हर एक व्यक्ति अपने जीवन में सफलता पाना चाहता है, हर कोई अति शीघ्र बहुत सारा धन प्राप्त करना चाहता है, जोकि इतना सरल नही है! कभी कभी जी तोड़ मेहनत करने के बाद भी सफलता मेहनत के अनुकूल प्राप्त नही होती! बहुत कम लोग ही अधिक श्रम के बाद भी पर्याप्त प्रतिफल प्राप्त कर पाते हैं।

व्यक्ति को कुछ कामों में तो सफलता मिल जाती है, लेकिन कुछ कामों में असफलता का मुंह भी देखना पड़ता है। हम जब ज्यादा कामों में सफल होंगे तो धन संबंधी लाभ भी मिलेगा और इस प्रकार धन संचय होने लगेगा। परंतु यदि चाणक्य के इन 6 प्रश्नों के उत्तर हमें मालूम हो तो जीवन में सफलता पाना काफ़ी सरल हो जाएगा!

2

प्राचीन समय में आचार्य चाणक्य तक्षशिला के गुरुकुल में अर्थशास्त्र के आचार्य थे। चाणक्य की राजनीति में गहरी पकड़ थी। इनके पिता का नाम आचार्य चणीक था, इसी वजह से इन्हें चणी पुत्र चाणक्य भी कहा जाता है। संभवत: पहली बार कूटनीति का प्रयोग आचार्य चाणक्य द्वारा ही किया गया था।

जब इन्होंने अपनी कूटनीति के बल पर सम्राट सिकंदर को भारत छोड़ने पर मजबूर कर दिया। इसके अतिरिक्त कूटनीति से ही इन्होंने चंद्रगुप्त जैसे सामान्य बालक को अखंड भारत का सम्राट भी बनाया। आचार्य चाणक्य द्वारा श्रेष्ठ जीवन के लिए चाणक्य नीति ग्रंथ रचा गया है। इसमें दी गई नीतियों का पालन करने पर जीवन में सफलताएं प्राप्त होती हैं।

चाणक्य कहते हैं कि:-  क: काल: कानि मित्राणि को देश: कौ व्ययागमौ। कस्याऽडं का च मे शक्तिरिति चिन्त्यं मुहुर्मुंहु:।।

यह चाणक्य नीति के चतुर्थ अध्याय का 18वां श्लोक है। इस श्लोक में चाणक्य ने बताया है कि हमें कार्यों में सफलता पाने के लिए किन 6 बातों को हमेशा ध्यान में रखना चाहिए। इन बातों का ध्यान रखकर काम करेंगे तो असफलता मिलने की संभावनाएं काफी कम हो जाती हैं।

आइए जानते है – चाणक्य के यह 6 प्रश्न:-

पिछला पेज 1 of 7
आगे पढ़ने के लिए अगला पेज पर क्लिक करें

SHARE

हिन्दू धर्म, ज्योतिष एवं स्वास्थ्य की लगातार अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें और ट्विटर पेज फॉलो करें!! और बने रहिये ॐनमःशिवाय.कॉम के साथ!!

Loading...
SHARE