अभी-अभी:- खुदाई के दौरान मिले महाभारत काल के रथ, मुकुट, तलवार!!

बागपत: सिनौली में खुदाई के दौरान महाभारत काल के रथ, मुकुट मिले

बागपत के सिनौली में करीब 5000 साल पुराना रथ, मुकुट, तलवार समेत कई बहुमूल्य चीजें मिली हैं. इन सामानों को दिल्ली के लालकिले में शिफ्ट किया जा रहा है।

दुनियाभर के इतिहासकारों का मिथक आखिरकार सिनौली साइट ने तोड़ ही दिया है। जिस बात को लेकर पुरातत्वविद और इतिहासकार काफी उत्साहित नजर आ रहे थे, वह नजारा आखिरकार सामने आ ही गया है। विश्व भर में अभी तक के मिले प्राचीन सभ्यताओं के शवाधान पुरास्थलों में सिनौली साइट सबसे अधिक महत्वपूर्ण है। यहां पर चल रहे खनन से पुरातत्वविदों को महाभारतकालीन ‘रथ’ और ‘शाही ताबूत’ मिले हैं। इसके साथ ही ताबूत में दफन योद्धा की ताम्र युगीन तलवारें, ढाल, सोने और बहुमूल्य पत्थरों के मनके, योद्धा का कवच, हेलमेट आदि भी प्राप्त होने से अब पूरे विश्व के पुरातत्वविदों की नजरें सिनौली पर टिक गई हैं।

रथ करीब 5000 साल पुराना है

सिनौली उत्खनन से प्राप्त पुरावशेषों की जानकारी देते हुए इतिहासकारों ने बताया कि सिनौली के वर्तमान उत्खनन से आठ मानव कंकाल और उनके साथ तीन एंटीना शॉर्ड (तलवारें), काफी संख्या में मृदभांड, विभिन्न दुर्लभ पत्थरों के मनकें और सबसे अधिक महत्वपूर्ण और कौतूहल वाला 5000 साल पुराना रथ मिला है। उन्होंने बताया कि भारत में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग की स्थापना के बाद से अभी तक हुए उत्खनन और शोध में पहली बार सिनौली उत्खनन से भारतीय योद्धाओं के तीन रथ भी प्राप्त हुए हैं, जो विश्व इतिहास की एक दुर्लभतम घटना है।

भारतीय इतिहास के लिहाज के बेहद महत्वपूर्ण

अभी तक विश्व के इतिहासकार भारतीय मानव सभ्यता के प्राचीन निवासियों को बाहर से आया हुआ बताकर अन्य सभ्यताओं से कमतर आंकते रहे हैं, लेकिन योद्धाओं के शवों के साथ उनके युद्ध रथ भी दफन किए गए। योद्धाओं की तलवारें, उनके हेलमेट, कवच, ढाल भी प्राप्त होना 5000 वर्ष प्राचीन युद्धकला का स्पष्ट उदाहरण हैं। मौके पर मौजूद शहजाद राय शोध संस्थान के निदेशक अमित राय जैन ने दावा किया कि सिनौली सभ्यता भारतीय संस्कृति और इतिहास को विश्व के पुरातत्वविदों को दोबारा लिखने को मजबूर करेगा।

अगले पेज पर पढ़ें बागपत का इतिहास….

पिछला पेज 1 of 2

SHARE

हिन्दू धर्म, ज्योतिष एवं स्वास्थ्य की लगातार अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें और ट्विटर पेज फॉलो करें!! और बने रहिये Omnamahashivaya.com के साथ!

Loading...
SHARE