जानिए आपके शरीर की जैविक घड़ी किस तरह से करती है काम ? जरूर जानें ये 5 बातें!!

नोबेल मेडिसिन पुरस्‍कार: शरीर की जैविक घड़ी इस तरह करती है दिन-रात काम…

वैज्ञानिक जेफ्रे सी हॉल, माइकल रोसबाश और माइकल डब्‍ल्‍यू यंग ने अपने शोध में बताया है कि इस जैविक घड़ी का सीधा तालमेल पृथ्‍वी के रोटेशन से होता है। इसलिए इसे दिन-रात का पूरा अहसास होता है।

इस बार 2017 नोबेल का चिकित्‍सा पुरस्‍कार शरीर के बॉयोलॉजिकल क्‍लॉक (जैविक घड़ी) यानी प्राकृतिक घड़ी की कार्यप्रणाली बताने वाले तीन वैज्ञानिकों को दिया गया है। वैज्ञानिक जेफ्रे सी हॉल, माइकल रोसबाश और माइकल डब्‍ल्‍यू यंग ने अपने शोध में बताया है कि इस जैविक घड़ी का सीधा तालमेल पृथ्‍वी के रोटेशन से होता है। इसलिए इसे दिन-रात का पूरा अहसास होता है। मसलन रात को इंसान को एक निर्धारित समय पर नींद आने लगती है? सुबह भी एक तय समय के आस-पास नींद अपने आप खुल जाती है?

आइए अगले पेज पर इस शोध से जुड़ी 5 बातों पर डालते हैं एक नजर….

पिछला पेज 1 of 3

SHARE

हिन्दू धर्म, ज्योतिष एवं स्वास्थ्य की लगातार अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें और ट्विटर पेज फॉलो करें!! और बने रहिये ॐनमःशिवाय.कॉम के साथ!!

Loading...
SHARE