जानिये घुटने के दर्द के कारण और उपचार ..

घुटने का दर्द घुटने का दर्द पुरुष या स्त्री को अलग-अलग उम्र में कई कारणों से होता है। इसकी खास वजह खान-पान में कमी तथा व्यायाम की अनियमितता है। मानव शरीर में पैर जितने ही महत्त्वपूर्ण हैं, उतने ही उनके बीच में बने घुटने । उन्हीं से पैरों को मुड़ने की क्षमता मिलती है। इन्हिं घुटनों में कई कारणों से दर्द होने लग जाता है।

OA Knee

घुटने के दर्द के कारण… घुटनों का दर्द निम्नलिखित कारणों से हो सकता हैः

आर्थराइटिस- लूपस जैसा- रीयूमेटाइड, आस्टियोआर्थराइटिस और गाउट सहित अथवा संबंधित ऊतक विकार

बरसाइटिस- घुटने पर बार-बार दबाव से सूजन (जैसे लंबे समय के लिए घुटने के बल बैठना, घुटने का अधिक उपयोग करना अथवा घुटने में चोट)

टेन्टीनाइटिस- आपके घुटने में सामने की ओर दर्द जो सीढ़ियों अथवा चढ़ाव पर चढ़ते और उतरते समय बढ़ जाता है। यह धावकों, स्कॉयर और साइकिल चलाने वालों को होता है।

download (2)

बेकर्स सिस्ट- घुटने के पीछे पानी से भरा सूजन जिसके साथ आर्थराइटिस जैसे अन्य कारणों से सूजन भी हो सकती है। यदि सिस्ट फट जाती है तो आपके घुटने के पीछे का दर्द नीचे आपकी पिंडली तक जा सकता है।

घिसा हुआ कार्टिलेज (उपास्थि)(मेनिस्कस टियर)- घुटने के जोड़ के अंदर की ओर अथवा बाहर की ओर दर्द पैदा कर सकता है।

घिसा हुआ लिगमेंट (ए सी एल टियर)- घुटने में दर्द और अस्थायित्व उत्पन्न कर सकता है।

झटका लगना अथवा मोच- अचानक अथवा अप्राकृतिक ढंग से मुड़ जाने के कारण लिगमेंट में मामूली चोट।

जानुफलक (नीकैप) का विस्थापन।

जोड़ में संक्रमण।

runners-knee-pain

घुटने की चोट- आपके घुटने में रक्त स्राव हो सकता है जिससे दर्द अधिक होता है।

श्रोणि विकार- दर्द उत्पन्न कर सकता है जो घुटने में महसूस होता है। उदाहरण के लिए इलियोटिबियल बैंड सिंड्रोम एक ऐसी चोट है जो आपके श्रोणि से आपके घुटने के बाहर तक जाती है।

कैसे करे घुटने की देखभाल…..

घुटने के दर्द के कई कारण है, विशेषकर जो अति उपयोग अथवा शारीरिक क्रिया से संबंधित है। यदि स्वयं इसकी देखभाल करें तो इसके अच्छे परिणाम निकलते हैं।

आराम करें और ऐसे कार्यों से बचे जो दर्द बढ़ा देते हैं, विशेष रूप से वजन उठाने वाले कार्य।

बर्फ लगाएं। पहले इसे प्रत्येक घंटे 15 मिनट लगाएं। पहले दिन के बाद प्रतिदिन कम से कम 4 बार लगाएं।

किसी भी प्रकार की सूजन को कम करने के लिए अपने घुटने को यथा संभव ऊपर उठा कर रखें।

कोई ऐसा बैंडेज अथवा एलास्टिक स्लीव पहनकर घुटने को धीरे धीरे दबाएं। ये दोनों वस्तुएं लगभग सभी दवाइयों की दुकानों पर मिलती है। यह सूजन को कम कर सकता है और सहारा भी देता है।

physical-therapy-exercises-for-knee-pain-flexion-extension-calf-raise-preview

घुटनों के नीचे अथवा बीच में एक तकिया रखकर सोएं।

घुटनों के दर्द का उपचार ..

सवेरे मैथी दाना के बारीक चुर्ण की एक चम्मच की मात्रा से पानी के साथ फंक्की लगाने से घुटनों का दर्द समाप्त होता है। विशेषकर बुढ़ापे में घुटने नहीं दुखते।

सवेरे भूखे पेट तीन चार अखरोट की गिरियां निकालकर कुछ दिन खाने मात्र से ही घुटनों का दर्द समाप्त हो जाता है।

नारियल की गिरी अक्सर खाते रहने से घुटनों का दर्द होने की संभावना नहीं रहती।

रोजाना दो से तीन बार अदरक की चाय पियें। अदरक का रस को पानी में मिलाकर उसे उबाले और शहद एवम नींबू के रस के साथ मिलाकर पीयें।

Adrak Tea

आधा चम्मच हल्दी को एक गिलास पानी में डालकर उसे उबाले और शहद के साथ ले।

4-5 बादाम 5-6 साबुत काली मिर्च 10 मुनक्का 6-7 अखरोट
प्रयोग – इन सभी चीज़ों को एक साथ मिलाकर खाएं । और साथ में गर्म दूध पीयें। कुछ दिन तक यह प्रयोग रोजाना करने से आपको घुटनों के दर्द में आराम मिलेगा।

अलसी के दानों के साथ 2 अखरोट की मिगी सेवन करने से जोड़ों के दर्द में आराम मिलता है।

नीम का तेल एवं अरंडी का तेल बराबर मात्रा में मिलाकर सुबह-शाम इसकी मालिश कीजिए।

गरम तेल से हल्की मालिश करना घुटनों के दर्द में बेहद उपयोगी है। एक बड़ा चम्मच सरसों के तेल में लहसुन की २ कुली पीसकर डाल दें। इसे गरम करें कि लहसुन भली प्रकार पक जाए। आच से उतारकर मामूली गरम हालत में इस तेल से घुटनों या जोड़ों की मालिश करने से दर्द में तुरंत राहत मिल जाती है। इस तेल में संधिवात की सूजन दूर करने के गुण हैं। घुटनों की पीड़ा निवारण की यह असरदार चिकित्सा है।

Januvasti

12345

 

SHARE

हिन्दू धर्म, ज्योतिष एवं स्वास्थ्य की लगातार अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें और ट्विटर पेज फॉलो करें!! और बने रहिये ॐनमःशिवाय.कॉम के साथ!!

Loading...
SHARE