देखिये कहाँ हैं भारत के 10 सबसे अधिक खूबसूरत झरनें (Water Falls)!!

वैसे तो प्रकृति के अनेकों चमत्कार हैं पर आज हम आपको बताने जा रहें हैं प्रकृति के सबसे खूबसूरत चमत्कार के बारे में…. जी हाँ हम आपको बताने जा रहे है भारत के सबसे सुन्दर झरनों के बारे में…

1. जोग वाटरफॉल : कर्नाटक (Jog Waterfall Karnataka)

जोग प्रपात महाराष्ट्र और कर्नाटक की सीमा पर शरावती नदी पर है। यह चार छोटे-छोटे प्रपातों – राजा, राकेट, रोरर और दाम ब्लाचें – से मिलकर बना है। इसका जल 250 मीटर की ऊँचाई से गिरकर बड़ा सुन्दर दृश्य उपस्थित करता है। इसका एक अन्य नाम जेरसप्पा भी है। इस वाटरफॉल की ऊंचाई 830 फीट है जो भारत का दूसरा सबसे ऊंचा वाटरफॉल है। इस फॉल को यूनेस्को की ओर से दुनिया के सबसे अच्छे पर्यावरणीय स्थलों में से एक घोषित किया गया है।

1

2. दूधसागर झरना : गोवा (Dudhsagar Falls, Goa)

गोवा-कर्नाटक की सीमा के पास मांडवी नदी पर स्थित एक जलप्रपात है। दूधसागर शब्द का अर्थ है ‘दूध के सागर’। यह झरना विश्व के सुंदर और लोकप्रिय झरनों में से एक है। यह झरना पणजी से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। दूधसागर झरना सबसे ऊँचे झरनों की सूची में भारत में 5 वें और विश्व में 227वें स्थान पर है। इस झरना की ऊँचाई 310 मीटर और औसत चौड़ाई 30 मीटर है। दूधसागर झरना मानसून के दौरान पर्यटकों को ज़्यादा आकर्षित करता है।

2

3.नोहकालीकाई झरना, चेरापूँजी (Nohkalikai Falls, Cherrapunji)

चेरापूँजी के समीप नोहकालीकाई झरना भारत का सबसे ऊँचा झरना है। चेरापूँजी प्रतिवर्ष की भारी बारिश के लिये जाना जाता है और इस झरने के जल का स्रोत यही बारिश है। इसलिये दिसम्बर से फरवरी के मध्य के सूखे समय में यह झरना काफी हद तक सूख जाता है।

झरने के ठीक नीचे नीले-हरे रंग के पानी वाले तैरने के क्षेत्र बन गये हैं। इस झरने के पास स्थित खड़ी चट्टान से छलाँग लगाने वाली स्थानीय लड़की का लिकाई के नाम पर इस झरने का नाम नोहकालीकाई पड़ा। पहले नोहकालीकाई झरने के पार स्थित एक दूर के स्थान से देखा जाता था लेकिन हाल ही में ऐसी सीढ़ियाँ बनाई गई है जो आपको झरने के ठीक नीचे तक ले जाती हैं। स्पॉन्डिलाइटिस और अस्थमा जैसी बीमारियों वाले लोगों को नीचे नहीं जाने की सलाह दी जाती है क्योंकि सैकड़ों सीढ़ियाँ वापस चढ़ना काफी कठिन हो जाता है।

3

4. कुने प्रपात, खंडाला (Kune Prapat Falls, Khandala)

कुने प्रपात खंडाला का एक प्रमुख आकर्षण है। 100 मीटर की ऊँचाई से गिरते हुए इस जलप्रपात को देखने से नही चूकना चाहिए। खंडाला और लोनावाला के बीच पर्यटकों को बौछार में भीगने की अनुमति है।मानसून के समय इस स्थान का अनुभव सबसे अच्छा होता है।

4

5. अथिराप्पिल्ली वाटरफॉल केरल: (Athirapally Waterfall, Kerala)

केरल पहले से ही भगवान की धरती कहे जाने वाला केरल अपने मॉनसून, समुद्री किनारा, प्रकृति और वाटरफॉल्स के लिए भी मशहूर है। यहां कई खूबसूरत और शानदार वाटरफॉल्स हैं, जो किसी का भी मन मोह सकते हैं। उनमें से अथिराप्पिल्ली सबसे खूबसूरत वाटरफॉल है। यहां पर 80 फीट ऊंचाई से पानी गिरता है। यह पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र माना जाता है।

5

और आगे भी देखिये……..

पिछला पेज 1 of 2

SHARE

हिन्दू धर्म, ज्योतिष एवं स्वास्थ्य की लगातार अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें और ट्विटर पेज फॉलो करें!! और बने रहिये ॐनमःशिवाय.कॉम के साथ!!

Loading...
SHARE