कैसे हुई चक्र प्राप्ति भगवान विष्णु को ?

प्राचीनकाल के समय की बात है, दैत्य और दानव प्रबल और शक्तिशाली होकर सभी मनुष्यों और ऋषिगणों को पीड़ा देने लगे और धर्म का लोप करने लगे| इससे परेशान होकर सभी ऋषि और देवगण भगवान विष्णु के पास पहुंचे| विष्णु भगवान ने पूछा — देवताओं!! इस समय आपके आने का क्या कारण है ? में आप लोगों के किस काम सकता हूँ नि: संकोच होकर आप अपनी समस्या बताइये|

देवताओं ने कहा – ‘हे देव रक्षक हरि’! हम लोग दैत्यों के अत्याचार से अत्यंत दुखी हैं| शुक्राचार्य की दुआ और तपस्य से बहुत ही प्रबल हो गए हैं हम सभी देवतां और ऋषि उन पराक्रमी दैत्यों के सामने विवश होकर उनसे परास्त हो गए हैं|  स्वर्ग पर भी उन अत्त्यचारी दैत्यों का राज्य हो गया है इस समय आप ही हमारे रक्षक हैं| इसलिए हम आपकी शरण में आये हैं| हे देवेश! आप हमारी रक्षा करें”| maxresdefault भगवान विष्णु ने कहा- ऋषिगणों हम सभी के रक्षक भगवान शिव हैं| उन्हीं की कृपा से में धर्म की स्थापना तथा असुरों का विनाश करता हूँ| आप लोगों का दुख दूर करने के लिए में भी शिव महेश्वर की उपासना करूँगा| और मुझे पूरा विश्वास है की शिव शंकर जरुर प्रसन्न होंगे और आप लोगों का दुःख दूर करने के लिए कोई न कोई उपाय अवश्य ढूंढ लेंगे|

विष्णु भगवन ऋषिगणों और देवताओं से ऐसा कहकर शिवा की भक्ति करने के लिए कैलाश पर्वत चले गए| वंहा पहुंचकर वो विधिपूर्वक भगवान शिव की तपस्या करने लगे| श्री विष्णु भगवान नित्य कई हज़ार नामों से शिवा की स्तुति करते तथा प्रत्त्येक नामोच्चारण के साथ एक- एक कमल पुष्प आपने अराध्या को अर्पित करते| इस प्रकार भगवान विष्णु की यह उपासना कई वर्षों तक निर्बाध चलती रही|  

एक दिन भगवान शिवा परमात्मा ने श्री  विष्णु भक्ति की परीक्षा लेनी चाही| भगवान विष्णु हर बार की तरह एक सहस्त्र कमल पुष्प शिवजी को अर्पित करने के लिए लेकर आये| तब भगवान शिवा ने उसमे से एक कमल पुष्प कहीं छिपा दिया| शिव माया के द्वारा इस घटना का पता भगवान विष्णु को भी नहीं लगा| उन्होंने गिनती में एक पूछ पाकर उसकी खोज आरम्भ कर दी| श्री विष्णु ने पुरे ब्रह्माण्ड का भ्रमण कर लिया परन्तु उन्हें कहीं वह पुष्प नहीं मिला| तदन्तर दृढ वृत्त का पालन करने वाले श्री विष्णु ने आपने एक कमलवत नेत्र ही उस कमल पुष्प के स्थान पर अर्पित कर दिया|

4e732ced3463d06de0ca9a15b6153677_1384509572श्री भगवान विष्णु के इस त्याग से महेश्वर तत्काल प्रसन्न हो गए और प्रकट होकर बोले– विष्णु!- में तुम पर बहुत प्रसन्न हूँ| इछा अनुसार वार मांग सकते हो| में तुम्हारी प्रत्येक कामना पूरी करूँगा| तुम्हारे लिए मेरे पास कुछ भी अदेय नहीं है|

श्री विष्णु ने कहा- ‘हे नाथ! आपसे में क्या कहूँ ? आप तोह स्वयं अन्तर्यामी हैं| ब्रह्माण्ड की कोई भी बात आपसे छिपी नहीं है| आप सब लकुछ जानते हैं फिर भी अगर आप मेरे मुख से सुनना चाहते है तो सुनिए| प्रभु! दैत्यों ने समूचे संसार को प्रताड़ित और दुखी किया हुआ है| धर्म की मर्यादा और विशवास को नष्ट करने में लगे हैं और कर चुके हैं धर्म की मर्यादा नष्ट हो चुकी है| अतः धर्म की स्थापना और ऋषिगणों और देवताओं के संरक्षण के लिए दैत्यों वध आवश्यक है| मेरे अस्त्र शास्त्र उन दैत्यों के विनाश में असमर्थ हैं| इसलिए में आपकी शरण में आया हूँ|

pbaae036_vishnu_kills_madhu_and_kaitabha

भगवान विष्णु की स्तुति सुनकर तब देवाधिदेव महादेव नें उन्हें आपने सुदर्शन चक्र दिया|  उस चक्र के द्वारा श्री हरी भगवान विष्णु ने बिना किसी श्रम के समस्त प्रबल दैत्यों का संहार कर डाला| सम्पूर्ण जगत का संकट समाप्त हो गया| देवता और ऋषिगण सब ही सुखी हो गए| इस प्रकार भगवान विष्णु को सुदर्शन चक्र के रूप में एक दिव्य आयुध की प्राप्ति भी हो गयी|

12345

SHARE

हिन्दू धर्म, ज्योतिष एवं स्वास्थ्य की लगातार अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें और ट्विटर पेज फॉलो करें!! और बने रहिये ॐनमःशिवाय.कॉम के साथ!!

Loading...
SHARE