आखिर मनुस्य क्या सोचता है मरने से पहले!! “जानिए मृत्यु के संकेत और मृत्यु के लक्षण”

क्या आप जानते हैं किसी व्यक्ति की मृत्यु से कुछ दिन पहले ही कई प्रकार के संकेत मिलने लग जाते हैं। इन संकेतों का अध्ययन करने पर मालूम किया जा सकता है कि व्यक्ति की मृत्यु का संभावित समय कब हो सकता है। मृत्यु एक अटल सत्य है। जिस व्यक्ति का जन्म हुआ है, एक दिन उसकी मृत्यु भी अवश्य होगी। यह बात सभी जानते हैं, फिर भी जीवन के अंत का डर हमेशा बना रहता है। इसी डर की वजह से अधिकांश लोग जानना चाहते हैं कि मृत्यु के संकेत कैसे होते हैं?यहां जानिए शिवपुराण में बताए गए ऐसे संकेत, जिनसे यह मालूम किया जा सकता है कि किसी व्यक्ति की मृत्यु कितने समय बाद हो सकती है…

mritt-1024x538

भगवान शिव त्रिदेवों में से एक हैं। उन्हें देवताओं का भी देवता कहा जाता है। भगवान शिव को धर्म-ग्रंथों मंं महाकाल भी कहा जाता है।महाकाल का अर्थ है काल यानी मृत्यु भी जिसके अधीन हो। भगवान शिव जन्म-मृत्यु से मुक्त हैं। अनेक धर्म ग्रंथों में भगवान शंकर को अनादि व अजन्मा बताया गया है। भगवान शंकर से संबंधित अनेक धर्मग्रंथ प्रचलित हैं, लेकिन शिवपुराण उन सभी में सबसे अधिक प्रामाणिक माना गया है। शिवपुराण के अनुसार एक समय माता पार्वती ने भगवान शिव से पूछा कि मृत्यु का चिह्न क्या है, क्या संकेत है, मृत्यु निकट आने से पहले कौन-कौन लक्षण प्राप्त होते हैं? तब भगवान शिव ने मृत्यु का समय निकट आने पर जैसे संकेत मिलते हैं, वे माता पार्वती को बताए थे।

2963015951_13ef098ffa_z

आगे पढ़िएआखिर क्या हैं मृत्यु के संकेत…

पिछला पेज 1 of 3
आगे पढ़ने के लिए अगला पेज पर क्लिक करें

SHARE

हिन्दू धर्म, ज्योतिष एवं स्वास्थ्य की लगातार अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें और ट्विटर पेज फॉलो करें!! और बने रहिये ॐनमःशिवाय.कॉम के साथ!!

Loading...
SHARE