अनोखी पहल:- श्मशान में चिता को साक्षी मान सात फेरे लेकर संपन्न हुआ विवाह!!

नीचे वीडियो में आप खुद देख सकत हैं… इतिहास में पहली बार शमशान घाट में हुई शादी सानिध्य मुरारी बापू

जब कोई पंडित श्मशान में विवाह करवाने को तैयार नहीं हुआ तो खुद मोरारी बापू श्मशान पहुंचे। वीडियो में आप खुद देख सकत हैं कि किस प्रकार श्मशान घाट में चिता के स्थान पर जल रही अग्नि के यह नवदंपति सात फेरे ले रहे है। ढोल-ताशों की आवाज के बीच दूल्हा-दुल्हन सात फेरे ले रहे है और कथा वाचक मोरारी बापू स्वयं मंत्रोच्चार कर रहे हैं।

घनश्याम ने मीडिया को बताया कि, ‘मोरारी बापू ने कहा था कि श्मशान अति पवित्र है। तभी संकल्प ले लिया था कि श्मशान में ही विवाह करूंगा। इस मौके पर श्मशान भूमि का महत्व समझाते हुए मोरारी बापू ने कहा कि श्मशान अति पवित्र भूमि है। यहां आने से जीवन में वैराग्य भाव नहीं आता। उम्मीद है कि श्मशान भूमि में सामूहिक विवाह भी होंगे।

वीडियो देखें:-Video Part 1

वीडियो देखें:-Video Part 2


Content Source: Zeenews Hindi

2 of 2अगला पेज

SHARE

हिन्दू धर्म, ज्योतिष एवं स्वास्थ्य की लगातार अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें और ट्विटर पेज फॉलो करें!! और बने रहिये ॐनमःशिवाय.कॉम के साथ!!

Loading...
SHARE