मृत्यु को भी टाल देती है भगवान हनुमान जी के इस स्वरूप की पूजा!!

हिन्दू धर्म में हर देवी-देवता को विशिष्ट स्थान प्रदान किया गया है.

यूं तो सभी के पास मानव जीवन की परेशानियों का हल है, लेकिन इनमें से कुछ ऐसे हैं जिन्हें सर्वबाधा हरने वाला माना जाता है। यही वजह है कि जब भी हमें कोई समस्या होती है या जीवन में कोई बाधा आन पड़ती है तो हमें ईश्वर की शरण में जाना ही पड़ता है, क्योंकि इसके अलावा हमारे पास कोई और विकल्प नहीं होता।

कोई नहीं चाहता कि उसके जीवन में परेशानियां आएं लेकिन सौरमंडल के ये ग्रह, हमारी कुंडली में किस स्थान पर मौजूद हैं या किस स्थान पर कैसी बैठकी रखते हैं, ये सभी बातें ये निर्धारित करती हैं कि हमारे जीवन में परेशानियों का आगमन कब और कैसे होगा। शनि, राहु और केतु जैसे ग्रह, बड़ी मात्रा में जीवन में आने वाली परेशानियों का कारण बनते हैं।

इनके द्वारा दिए गए कष्टों से मुक्ति पाने या इनके कोप से बचने का मात्र एक ही उपाय मनुष्य के पास मौजूद है और वो है हनुमत आराधना। ऐसा माना जाता है कि हनुमान जी एकमात्र ऐसे ईश हैं जिनसे ये सभी दुष्ट ग्रह भयभीत रहते हैं। इनकी पूजा-अर्चना कर मनुष्य जीवन के दुखों से मुक्ति पा सकता है।

हनुमान चालीसा, सुंदर कांड, हनुमानाष्टक, बजरंग बाण का नित्य दिन पाठ और मंगलवार के दिन हनुमान जी के दर्शन करना…ये सभी उपाय कष्टों से मुक्ति दिलवाते हैं।

लेकिन इसके बावजूद कुछ बातें हैं जिनका ध्यान रखना आवश्यक है, वो है हनुमान जी की पूजा के दौरान उनकी किस मूर्ति या तस्वीर के दर्शन करना कैसे फल प्रदान करता है।

अगले पेज पर जानते हैं सभी स्वरूप के बारे में ….

पिछला पेज 1 of 3

SHARE

हिन्दू धर्म, ज्योतिष एवं स्वास्थ्य की लगातार अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें और ट्विटर पेज फॉलो करें!! और बने रहिये Omnamahashivaya.com के साथ!

Loading...
SHARE