जानिए क्यों मनाते हैं महाशिवरात्रि?? पूजा, शुभ मुहूर्त और 51 साल बाद बन रहा है महासंयोग!!

दो दिनों की महाशि‍वरात्रि में इस बार विशेष योग…. 

महाशिवरात्रि का व्रत इस साल 13 और 14 फरवरी को मनाया जाएगा। वर्ष 2018 में महाशिवरात्रि पूजन का समय 13 फरवरी की आधी रात से प्रारंभ होगा। जिसका समापन अगले दिन यानी 14 फरवरी को किया जाएगा। 14 फरवरी की सुबह महाशिवरात्रि पूजन का सही समय सुबह 07:30 बजे से दोपहर 03:20 तक का है। रात्रि के समय शिव पूजन एक या चार बार किया जाता है। जिसके बाद पूजा समाप्त करके अगली सुबह स्नान के पश्चात् व्रत का पारण किया जाता है।

महाशिवरात्रि व्रत का पूजन भी अन्य व्रत के भांति प्रातःकाल किया जाता है। जिसके लिए सूरज उगने से पूर्व नहा लेना चाहिए। उसके बाद अपने घर के पास मौजूद किसी शिव मंदिर में जाकर भगवान शिव का जलाभिषेक और दुग्धाभिषेक करना चाहिए। इसके बाद शिवलिंग पर भांग, धतुरा, बेलपत्र, आख, आदि अर्पित करना चाहिए। माना जाता है अन्य फलों की तुलना में शिव जी को जंगली फल व् पत्तियां अधिक प्रिय है। इसके बाद धुप-दीप जलाकर शिव जी की आरती गानी चाहिए और प्रणाम करना चाहिए।

व्रत रखने वाले व्यक्ति इस दिन कुछ नहीं खाते। वैसे अगर आप चाहे तो फलों के रस या फलों का सेवन कर सकते है। लेकिन भोजन या अन्न का सेवन नहीं करना चाहिए। हालांकि कुछ भक्त व्रत के दौरान रात्रि पूजन से पूर्व सायंकाल के समय एक बार भोजन कर लेते है। तो इस वर्ष आप भी भोले बाबा का व्रत करके उन्हें प्रसन्न करें और उनसे अच्छे जीवनसाथी का आशीर्वाद लें।

अगले पेज पर पढ़िए 51 साल बाद बन रहा है ऐसा महासंयोग…

SHARE

हिन्दू धर्म, ज्योतिष एवं स्वास्थ्य की लगातार अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें और ट्विटर पेज फॉलो करें!! और बने रहिये Omnamahashivaya.com के साथ!

Loading...
SHARE